किसान बिल पर राजनीति

किसान बिल की आड़ में मोदी का विरोध

हमने इंदिरा ठोक दी, मोदी क्या चीज़ है कहने वाले किसान नहीं हो सकते!
कब्र खोदने की बात करने वाले किसान नहीं हो सकते!
खालिस्तानी आतंकी भिंडरवाला के पोस्टर बैनर लहराने वाले किसान नहीं हो सकते!

तो कौन है ये ? क्या भारत के सारे किसान पंजाब में ही रहते है ? सारा विरोध पंजाब के तथाकथित किसान ही क्यों कर रहे है ?

किसी अन्य राज्य के किसानों को नये किसान बिल से कोई दिक्कत नहीं है लेकिन कांग्रेस कुशासित राज्य पंजाब के तथाकथित किसानों को बड़ी दिक्कतें है।

किसान बिल का विरोध करने वाला कोई व्यक्ति मुझे बता दे कि नया किसान बिल किस प्रकार से किसान विरोधी है ? नये बिल में कहां लिखा है की मंडी और एमएसपी समाप्त हो जाएगी ?

सोचने वाली बात है कि जो मोदी सरकार सभी किसानों के बैंक खाते में 6000₹ हर साल सीधा दे रही है वो किसानों का बुरा कैसे सोच सकती है ? आज तक तो किसी सरकार ने किसानों को 1 रुपया भी नहीं दिया था।

मोदी सरकार ने यूरिया की नीम कोटिंग करके किसानों की खाद की समस्या दूर की।
मोदी सरकार ने किसानों को सायल हेल्थ कार्ड दिया जिससे किसानों को हजारों रुपए की बचत हो रही है।
मोदी सरकार किसानों के लिये कुसुम योजना लेकर आयी।
मोदी सरकार ने किसानों को पर्याप्त बिजली उपलब्ध करवायी।
मोदी सरकार ने किसानों को पर्याप्त पानी उपलब्ध करवाया।
मोदी सरकार ने 5 वर्षों में सूक्ष्‍म सिंचाई के अंतर्गत 100 लाख हेक्टेयर भूमि कवर करने का लक्ष्‍य रखा है।
मोदी सरकार किसानों को सब्सिडी पर सोलर पंप दे रही है।
मोदी सरकार किसानों को सब्सिडी पर कृषि उपकरण दे रही है।
मोदी सरकार किसानों को कृषि ऋण की ब्याज दरों में छूट दे रही है।
मोदी सरकार किसानों की फसलों का बीमा कर रही है।
मोदी सरकार लगातार एमएसपी में वृद्धि कर रही है।
मोदी सरकार किसानों के लिए फूड पार्क, कोल्ड स्टोरेज बना रही है।

किसान चाहता था कि वो अपनी फसल अपने तय किये दाम पर बेच सके, जहां चाहे वहां बेच सके, जिसको चाहे उसको बेच सके.. अब मोदी सरकार ने नये किसान बिल के माध्यम से किसानों को यह सुविधा भी दे दी है।

तो समस्या क्या है ? किसको समस्या है ?

मै बताता हूं.. समस्या कुछ नहीं है। लेकिन जो लोग मंडी में दलाली करते थे, समस्या उनको है।
जो लोग किसानों के हक का पैसा मारते थे, समस्या उनको है।
जो नहीं चाहते किसान आगे बढ़े, समस्या उनको है।
जो चाहते है किसान पिछड़ा दीन हीन रहे, समस्या उनको है।
जिनकी राजनीति कर्जमाफी और किसान आत्महत्या के मुद्दे पर ही चलती है, समस्या उनको है।


Ajay Dhyani

69 Thoughts posts

Comments